Tuesday 2nd March 2021

अमन-चैन से रहें सभी का हम सम्मान करें

डॉ० अशोक ‘गुलशन’

अमन-चैन से रहें सभी का हम सम्मान करें,
आओ तम में दीप जलाकर जग उजियार करें|

इस धरती के रावण का सब मिलकर नाश करें,
ईश वन्दना कर असुरों का हम संहार करें |

उनको अपना मीत बना लें जो हैं दूर खड़े,
ऊँच-नीच का बन्धन तोड़ें सबसे प्यार करें|

एक रहें हम नेक बनें हम नारा यही रहे,
ऐब मिटाकर हृदय-हृदय से मन को साफ़ करें|

ओज-शौर्य हो प्रभा-कान्ति हो ऐसा रूप दिखे,
औरों के हित जियें सभी हम यह अरदास करें |

अंग लगाकर दीन-दुखी के दुःख को दूर करें,
अः से आह मिटाकर सबका हम कल्याण करें|

ऋ से मतलब रखें और हम सारे अक्षर जानें,
ॠ से भी कुछ रहे वास्ता सबका पाठ करें|

ऌ एक स्वर है इसको भी आओ पढ़ें-पढ़ायें,
ॡ में भी है मन्त्र छुपा इसका भी मान करें|

डॉ० अशोक ‘गुलशन’,उत्तरी कानूनगोपुरा, बहराइच (उ०प्र०)

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
CATEGORIES

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )