Wednesday 21st April 2021

जमीं पर हो कदम,आसमां की बात करो

कविता *डॉ साधना गुप्ता

जमीं पर हो कदम ,आसमां की बात करो
कल्पना को दो पंख ,कर्म संग  तुम बढ़ो
शक्ति संग शोभती क्षमा, शक्तिवान अब बनो
शक्तिहीन रहकर,यों न निराशा  को गहो
आत्मशक्ति जाग्रत कर,स्वरक्षा में सक्षम बनो
कन्या दान की  नहीं वस्तु,दुनिया को दिखला दो
सौभाग्यकांक्षी-सौभाग्यवती के अंतर को मिटा दो
तोड़ विज्ञापन की कारा,देह -दर्शना न बनो
शालीन हो आचार-व्यवहार,परिधान भी पहचान हो
कमल-पत्र सम स्निग्ध ,आचरण को तुम गहो
भोगवादी समलैगिगता को त्याग संयम गहो
 वासना की दृष्टि को,उद्वाह से  उन्नत करो
स्वत्व को अपनाओ नारी,न यों दुनिया से डरो
*डॉ साधना गुप्ता
  झालावाड़, राजस्थान
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
CATEGORIES

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (1 )