Wednesday 21st April 2021

झारखंड में कुर्सी रेस

*नवेन्दु उन्मेष*
झारखंड में कुर्सी रेस चल रहा है। इस रेस में शामिल होने के लिए टिकट प्राप्त करना जरूरी है। बगैर टिकट प्राप्त किये कोई भी नेता या व्यक्ति रेस में षामिल नहीं हो सकता। टिकट किसी भी तरह मिले। कोई भी दल दे। कोई भी दल टूटे या फूटे इससे किसी को कोई मतलब नहीं है। कुर्सी रेस में शामिल होना है तो टिकट चाहिए। एक नेता लंबे समय तक कांग्रेस में रहे। कांग्रेस ने विधायक बनाया, मंत्री बनाया। जब तक कांग्रेस के अच्छे दिन थे। वे कांग्रेस में तन-मन-धन से जुटे रहे। कांग्रेस कमजोर हो गयी तो कांग्रेस को छोड़ दिया। फिर दूसरी पार्टी में आ गये। वहां जाकर कांग्रेस को गालियां दी। कांग्रेस के खिलाफ जहर उगलते रहे। दूसरी पार्टी में गये तो वहां पद मिला। पद चलता रहा। जब उसने भी टिकट नहीं दी तो तीसरी पार्टी में चले गये। अब पूर्व के दो दलों को गाली दे रहे हैं। अब तीसरे दल से कुर्सी रेस मे शामिल होने का टिकट मिल गया है तो रेस में शामिल हो गये हैं। मतलब साफ है जिधर पूड़ी उधर घुरी। जिधर खाने को पूड़ी मिले उधर घूम जाना बेहतर है। 19 साल बाद भाजपा और आजसू का गठबंधन भी टूट गया। इसे देखकर लगा जैसे बड़े बेआबरू होकर तेरे कूचे से निकले, बहुत निकले मेरे अरमान, फिर भी कम निकले। भाजपा-लोजपा, भाजपा-जदयू के रिश्ते में भी खटास आयी। अब सभी दलों के प्रत्याशी अपना-अपना मंडल-कमंडल लेकर चुनावी रेस में शामिल हैं। इससे जाहिर होता है कि दलों के अपने नीति सिद्धांत तो होते हैं लेकिन नेताओं या कार्यकर्ताओं के नहीं। जाहिर है नेता भी अब कारपोरेट कंपनी के कर्मचारी की तरह काम करते हैं। अगर एक कंपनी नौकरी देने को तैयार न हो तो दूसरी कंपनी ज्वाइन कर लेते हैं। सिर्फ कहने को समाजसेवी हैं। समाज सेवा की आड़ में उन्हें समाज की मेवा की तलाश रहती है। इस मेवा को पाने के लिए
कोई भी दल या सिद्धांत स्वीकार है। किसी भी दल का प्रमुख चोर-उचक्का या भ्रष्टाचारी क्यों न हो। सिर्फ टिकट दे। रेस में शामिल होने का मौका दे सब चलेगा। हालांकि अपराधी, माफिया, बलात्कारी कार्यकर्ता भी राजनीतिक दलों को पसंद हैं। उनमें सिर्फ माद्दा होना चाहिए चुनाव जीतने का। राजनीतिक दलों के लिए कार्यकर्ता या नेता वहीं स्वीकार है जो ऐन केन प्रकारेण चुनाव जीत सके। इसके अलावे वह कुछ भी करता हो। इससे उन्हें कोई मतलब नहीं है। रेसा के घोडे को केवल चुनाव में जीतना चाहिए। चुनाव के वक्त रेस के घोड़े पूरी तरह ठोक बजाकर राजनीतिक दलों में लाये जाते हैं। उसके चाल, चऱित्र और चेहरे को नहीं देखा जाता। वैसे कुर्सी के लिए हर युग में रेस होता रहा है। पहले राजे-महाराजे कुर्सी के लिए युद्ध करते थे। कत्लेआम करते थे। पराजित देश के निवासियों को लूट लेते थे। इतिहास बताता है कि कुर्सी के लिए युवराज ने राजा का कत्ल कर दिया। इसके बाद राजसिंहासन पर बैठक गया। सरकारी या निजी दफतरों में भी कुर्सी के लिए लड़ाई-झगड़ा होना आम बात है। सबसे बड़ी चीज कुर्सी है। हर काम कुर्सी के लिए है। थाने में बैठा दारोगा भी कुर्सी के लिए बड़ा बाबू को कोसता मिलेगा। जो जहां है कुर्सी की तलाश में लगा है। उंची कुर्सी मिलते ही उससे उंची कुर्सी हासिल करना चाहता है। अगर उससे उंची कुर्सी मिल गयी तो उससे उंची कुर्सी की तलाश में लग जाता है। जाहिर है सब को कुर्सी चाहिए।

*नवेन्दु उन्मेष,रांची, झारखंड

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
CATEGORIES

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (1 )