Wednesday 21st April 2021

खबर में कोरोना का वर्जन

कविता*विनोद कुमार गौड़





कल रात सपने में आकर बोला वायरस कोरोना !
सुनो ध्यान से पत्रकार जी इतना ख़ौफ़ करो ना !!

बात सुनी वायरस की थोड़ा डरा झिझक गया !
फिर संभला और बजरंग बली को याद किया।।

बोला करोना खबरनवीस जी अब मुंह मत मोड़ो।
अपनी खबरों में कुछ तो मेरा भी इनपुट जोड़ो।।

इतना घातक नहीं हूँ भाई जितनी करते हो टेंशन।
मेरा भी वर्जन ले लो और कर दो स्टोरी में मेंशन।।

मैं बोला तेरे कारण बार-बार हाथ धोने पड़ रहे हैं।
मास्क सेनिटाइजर की कालाबाजारी में सड़ रहे हैं।।

रे शनीचर कारोबार भी तुमने चोपट कर डाला।
स्कूल कॉलेज माल सिनेमा पर लगा दिया ताला।।

सभा-समारोह, भजन कीर्तन और प्रर्दशन बैन हुए।
नॉनवेज-सीफ़ूड के शौक़ीन अब सनातनी,जैन हुए।।

नॉन स्टॉप बोलते देख, वो मंद-मंद मुस्कुराया
बोला सांस ले ले अब तूं, मेरी भी सुण ले भाया !!

प्रकृति से छेड़छाड़ कर मानव मनमर्जी करता है !
रीत पुरानी है यह जानो, जो करता है वो भरता है !!

निर्दोष मूक प्राणियों को जीभ का स्वाद बनाते हो!
असुरों से भी बुरे बने हो, अभक्ष्य भी खाते हो !!

चप्पल-जूते पहने घर में बेधड़क तुम घूम रहे हो।
आधुनिकता के रंग में डूबे सनातनी भूल गए हो।।

हाथ पैर धो घर में घुसना कब का सबने छोड़ दिया
हल्लो हाय के चक्कर में नमस्कार भी छोड़ दिया।।

अब भी वक़्त है चेतो और मुझे कोसना छोड़ो तुम।
सत्य सनातन संस्कृति से अब तो नाता जोड़ो तुम।।

मिलो सभी से राम-राम कह हाथ जोड़ना शुरू करो।
मानव हो तुम असुर नहीं,कुछ उपकार ज़रूर करो।।

खाओ फल-सब्जी लेकिन मांसाहार से दूर रहो !
नित्य नियम अपना लो, भगवद भक्ति में चूर रहो !!

सुनकर बातें कोरोना की, मुझे समझ यह आया !
हम सुधरेंगे तभी खत्म होगा, कोरोना का साया।।

तो आओ हम सब मिल कर यह अभियान चलाएं।
ख्याल रखें एक दूजे का, कोरोना को दूर भगाएं।।

*विनोद कुमार गौड़

कोरोना,न घबरायें हम
कोरोना का एक ही,दिखता हमें इलाज।
पैसे कमाओं पर कुछ सिख लो बिल गेट्स से


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )